http://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js राजस्थान: तो वसुंधरा सरकार से नाराज हो गए हैं राज्यपाल कल्याण सिंह, अपोलो अस्पताल से छुट्टी – INDIA NEWS LIVE
Home / Country / राजस्थान: तो वसुंधरा सरकार से नाराज हो गए हैं राज्यपाल कल्याण सिंह, अपोलो अस्पताल से छुट्टी

राजस्थान: तो वसुंधरा सरकार से नाराज हो गए हैं राज्यपाल कल्याण सिंह, अपोलो अस्पताल से छुट्टी

====
6 मार्च को राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह को दिल्ली के प्राइवेट अपोलो अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। राज्यपाल अब अपनी पोती के विवाह में शामिल होने के लिए अलीगढ़ पहुंच गए हैं। 4 मार्च को जयपुर में राजभवन में तब हड़कंप मच गया था, जब कल्याण सिंह को स्वाइन फ्लू बता दिया गया। चूंकि राजस्थान में स्वाइन फ्लू से लगातार मौते हो रही हैं इसलिए कल्याण सिंह इतने घबराए कि रात को ही विशेष विमान का इंतजाम कर दिल्ली के अपोलो अस्पताल पहुंच गए। 5 मार्च को अपोलो अस्पताल ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि कल्याण सिंह को स्वाइन फ्लू नहीं है। यही वजह रही कि 6 मार्च की सुबह ही कल्याण सिंह को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। अस्पताल से बाहर आकर कल्याण सिंह ने मीडिया से कहा कि वे पूरी तरह स्वास्थ हैं। राजस्थान सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने किस रिपोर्ट के आधार पर स्वाइन फ्लू बताया, अब इसकी जांच होनी चाहिए। 6 मार्च को जिस अंदाज में कल्याण सिंह ने अपनी बात को रखा, उससे जाहिर होता है कि राज्यपाल अब वसुंधरा सरकार से नाराज हैं। अभी यह पता नहीं चला है कि 4 मार्च की रात से 6 मार्च तक सीएम वसुंधरा राजे और कल्याण सिंह में कोई संवाद हुआ या नहीं। आमतौर पर राज्यपाल और मुख्यमंत्री बीमार होते हैं तो सामान्य शिष्टाचार के अंतर्गत दोनों एक दूसरे के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेते हैं। इस मामले में तो रज्यपाल को रातों रात जयपुर छोड़कर विशेष विमान से दिल्ली जाना पड़ा। यदि अभी तक सीएम राजे और कल्याण सिंह के बीच संवाद नहीं हुआ है तो यह अमने आप में गंभीर मामला है। कल्याण सिंह भाजपा के कोई छोटे-मोटे नेता नहीं रहे हैं। बल्कि उनकी गिनती राष्ट्रीय नेताओं में होती है।
यदि राज्यपाल जयपुर में ही रहते तो?
अब सवाल यह उठता है कि कल्याण सिंह जयपुर के राजभवन में ही रहकर अपना इलाज करवाते तो क्या होता? वसुंधर सरकार का चिकित्सा विभाग अब भी दावा कर रहा है कि कल्याण सिंह को स्वाइन फ्लू पाॅजीटिव था। यानि जयपुर में तो स्वाइन फ्लू का ही इलाज होता। इससे कल्याण सिंह की हालात और बिगड़ती। जबकि अपोलो अस्पताल ने तो कल्याण सिंह को छुट्टी भी दे दी है। सवाल यह भी है कि जब राज्यपाल जैसे व्यक्ति के साथ सा हो रहा है तो राजस्थान में आम जनता का क्या होगा?

वरिष्ठ पत्रकार हैं , जिन्हें पत्रकारिता के क्षेत्र में 29 वर्षों का विशेष अनुभव प्राप्त है ၊

एस पी मित्तल

FacebookTwitterGoogle+WhatsApp

About Admin

x

Check Also

दैनिक भास्कर अखबार के समूह संपादक कल्पेश याग्निक का निधन, प्रिंट मीडिया की अपूरणीय क्षति

प्रिंट मीडिया इंडस्ट्री से एक बुरी खबर है. दैनिक भास्कर अखबार के ...

Translate »
Powered by shf network private limited