http://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js तीतीर स्तूप के निकट मिला प्राचीन पत्थर की प्रतिमा,प्रतिमा को देखने उमड़ी भीड़ औरतों ने पूजा करना शुरू कर दिया – INDIA NEWS LIVE
Don't Miss
Home / Recent / तीतीर स्तूप के निकट मिला प्राचीन पत्थर की प्रतिमा,प्रतिमा को देखने उमड़ी भीड़ औरतों ने पूजा करना शुरू कर दिया

तीतीर स्तूप के निकट मिला प्राचीन पत्थर की प्रतिमा,प्रतिमा को देखने उमड़ी भीड़ औरतों ने पूजा करना शुरू कर दिया

Share

*जीरादेई/सारण प्रमण्डल*
*आदित्या कुमार सिंह*

जीरादेई:-प्रखण्ड क्षेत्र के तीतिरा टोले बंगरा गांव में तीतीर स्तूप के सटे दक्षिण खेत की जोताई में मंगलवार को प्राचीन पत्थर की टूटी प्रतिमा मिली । एक किसान ने ट्रेक्टर से अपना खेत जोत रहा था उसी क्रम में एक पत्थर की टूटी प्रतिमा मिली इसकी सूचना जब ग्रामीणों को दिया तो काफी संख्या में लोग देखने के लिये आये । उन्होंने बताया कि तीतिर स्तूप भगवान बुद्ध से संबंधित है ।

यह प्रतिमा भगवान बुद्ध की प्रतिमा जैसा प्रतीत होती है ।उन्होंने यह भी बताया कि विगत माह भारतीय पुरातत्व विभाग भारत सरकार के द्वार यहाँ परीक्षण उत्खनन कराया गया जिसमें बहुत से पुरातात्विक साक्ष्य तथा एक छोटा शिलालेख मिला था व मौर्य , कुषाण ,एवम गुप्ता पीरियड का मिश्रित ईंट से निर्मित भवनावशेष व दिवाले मिली है । ग्रामीणो ने बताया कि अक्सर हमलोगों को यहाँ से चमकीला काली पॉलिश्ड का मिट्टी के वर्तन का टुकड़ा ,खिलौना व मुर्तिया मिलती रहती है । उनलोंगों बताया कि गांव के बुजुर्ग बताते है कि यह भगवान बुद्ध का स्थान है आज भी यहाँ उनकी पूजा आराधना होती है तथा विदेशी बौद्ध भिक्षुओं का टीम भी आया करता है । ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि पुरातत्व विभाग खाना पूर्ति की परीक्षण उत्खनन के लिए 30 दिन का आदेश निर्गत हुआ था पर मात्र 16 दिन में ही परीक्षण उत्खनन कार्यों को बंद कर दी । तथा जो भी पुरातात्विक अवशेष अन्वेषण के क्रम में मिला उसे बिना संरक्षण किये ही छोड़ दिया गया है ।शोधार्थी ने बताया कि यह प्रतिमा आरम्भिक अवधि की प्रतीत होती है पर सही आकलन कोई पुरातत्वविद ही दे सकता है वैसे इस प्रतिमा में दो तस्वीर है जिसमे एक बुद्ध जैसा प्रतीत होता है । तथा एक का चेहरा टूटा हुआ है । तथा यह प्रतिमा कलात्मक नही है व पत्थर पर फिनिसिंग नही है । उन्होंने बताया कि गढ़ के ऊपरी भाग से खेत 25 फीट नीचे है यही कारण है कि गढ़ के सटे किसी भी भाग में चार या पांच फीट खोदने पर एनबीपी व धूसर मृदभांड व टेराकोटा की मूर्तियां , गोली ,व खिलौने मिलने लगते है ।

Share

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Archives

x

Check Also

कश्मीर में बंद का आह्वान, JKLF नेता यासिन मलिक हिरासत में

जम्मू एवं कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के नेता यासिन मलिक को गुरुवार ...

Translate »