http://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js गांधी जी की हत्या पर क्या कांग्रेस फिर संघ को उलझाना चाहती है? मानहानि के मामले पर राहुल गांधी पर आपराधिक आरोप तय – INDIA NEWS LIVE
Don't Miss
Home / Country / गांधी जी की हत्या पर क्या कांग्रेस फिर संघ को उलझाना चाहती है? मानहानि के मामले पर राहुल गांधी पर आपराधिक आरोप तय

गांधी जी की हत्या पर क्या कांग्रेस फिर संघ को उलझाना चाहती है? मानहानि के मामले पर राहुल गांधी पर आपराधिक आरोप तय

Share

SP Mittal
=====
सवाल ये नहीं है कि 12 जून को महाराष्ट्र भिवंडी कोर्ट ने मानहानि के मामले में कांग्रेस के राष्ट्रहीय अध्यक्ष राहुल गांधी पर आपराधिक आरोप तय कर दिए हैं। अहम सवाल ये है कि क्या कांग्रेस एक बार फिर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ को राष्ट्रपिता की हत्या के मामले में उलझाना चाहती है? 12 जून को राहुल गांधी ने भिवंडी कोर्ट में जो रुख अपनाया उससे प्रतीत होता है कि कांग्रेस महात्मा गांधी की हत्या के मामले को फिर से ताजा करना चाहती है। यही वजह रही कि राहुल गांधी ने अदालत में कहा कि वे मुकदमे का सामना करेंगे। हालांकि जज ने राहुल से कहा कि महात्मा गांधी की हत्या में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का नाम जोड़ कर आपने संघ की शाख को नुकसान पहुंचाया है। इस पर राहुल गांधी ने कहा कि वे दोषी नहीं है। इसके साथ ही अदालत ने आईपीसी की धारा 499 व 500 के अंतर्गत राहुल गांधी पर आरोप तय कर दिए। आरोप तय होने के बाद अब राहुल गांधी मुल्जिम के तौर पर अदालत में उपस्थित होंगे। लेकिन जिस अंदाज में राहुल गांधी अदालत से बाहर निकले उससे कहा जा सकता है कि इस मुकदमे में कांग्रेस को राजनीतिक फायदा नजर आ रहा है। मालूम हो कि 6 मार्च 2014 को एक चुनावी रैली में राहुल गांधी ने कहा था कि महात्मा गांधी की हत्या के लिए आरएसएस दोषी है। इसी को आधार बनाकर राहुल गांधी के खिलाफ कोर्ट में मानहानि का दावा पेश किया गया।
गौडसे को हो चुकी है फांसीः
महात्मा गांधी की हत्या के आरोप में नाथूराम गोडसे को फांसी हो चुकी है। हालांकि अदालत में गांधी जी की हत्या पर लम्बा वाद-विवाद हुआ। तब यह कहा गया कि गोडसे का संबंध संघ से है, हालांकि गांधी जी की हत्या में संघ के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला। गोडसे ने भी अपने बयानों में माना कि गांधी जी की हत्या की योजना उसने अकेले ने बनाई थी। बयानों में उन कारणों को भी गिनाया गया, जिनकी वजह से हत्या की गई। हालांकि गांधी जी की हत्या का मामला गोडसे को फांसी के बाद ही समाप्त हो गया था, लेकिन अब मानहानि के मुकदमे में उन सभी आरोप प्रत्यारोपों से गुजरना होगा, जो पूर्व में अदालत में हो चुके हैं।
एस.पी.मित्तल)

Share

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Archives

x

Check Also

बेतिया: नौतन मे सरस्वती शिशु मंदिर के छात्र छात्राओं ने विश्व योग दिवस पर योग शिविर का आयोजन किया गया

ब्यूरो रिपोर्ट सत्येंद्र पांडे बेतिया पश्चिमी चंपारण बेतिया नौतन के श्री राम ...

Translate »