http://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js भोजपुरी अश्लीलता विरोधी अभियान के नायक रासबिहारी गिरी ने रुपहले पर्दे पर भी मचाया धमाल – INDIA NEWS LIVE
Home / संपादकीय / भोजपुरी अश्लीलता विरोधी अभियान के नायक रासबिहारी गिरी ने रुपहले पर्दे पर भी मचाया धमाल

भोजपुरी अश्लीलता विरोधी अभियान के नायक रासबिहारी गिरी ने रुपहले पर्दे पर भी मचाया धमाल

सारण की उर्वर धरती में जहां भिखारी ठाकुर महेंद्र मिश्र जैसे भोजपुरी के अंगढ़ हीरा पैदा हुए उसी परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं रासबिहारी गिरी जिन्हें दुनिया सूर्या रवि के नाम से भी जानती है। छपरा के एकमा थाना अंतर्गत केसरी के मठिया गांव के निवासी सूर्या को बचपन से ही अभिनय का शौक था पढ़ाई लिखाई में होशियार रासबिहारी गिरी ने मुंबई का रुख किया ၊

फिल्मों में काम पाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाया पर सफलता नहीं मिली रोजी रोटी का जुगाड़ भी करना था इसलिए मुंबई में ट्रांसपोर्टरों के यहां नौकरी शुरू की साथी साथ फिल्मों में काम पाने की ललक भी इनके अंदर जिंदा रही। मुंबई में जब सफलता नहीं मिली तो ट्रांसपोर्ट के व्यवसाय पर ही उन्होंने अपना पूरा ध्यान केंद्रित किया और मुंबई से कोलकाता की तरफ रुख किया कोलकाता में खुद की ट्रांसपोर्ट की एजेंसी खोली और अपना व्यवसाय चमकाने लगे आज की तारीख में इनकी गिनती कोलकाता के बड़े ट्रांसपोर्टरों में होती है इतना कुछ होने के बावजूद दिल के किसी कोने में अभिनय की जो इच्छा थी वह मरी नहीं वह और प्रबल हुआ।

सोशल मीडिया के माध्यम से भोजपुरी में व्याप्त अश्लीलता के खिलाफ व्यापक पैमाने पर अभियान चलाते रहे जो आंदोलन का रूप लिया जहां-तहां भोजपुरी के अश्लील गायकों का विरोध होने लगा अश्लीलता विरोधी अभियान के अगुआ रासबिहारी गिरी को अश्लील फिल्म बनाने वालों ने चुनौती दे डाली कि आप एक साफ-सुथरी फिल्म बना कर दिखाओ और फिल्मों में पैसा लगाओ तब आप हम लोगों के खिलाफ कुछ बोलना उनके इस चैलेंज को रासबिहारी गिरी ने स्वीकार किया और अपने बैनर तले फिल्म बनाई प्रेम प्यार में जिसकी शूटिंग छपरा जिले के हाफिजपुर बनियापुर भगवानपुर इलाके में हुई ၊

अपने फिल्म में भोजपुरी के महानायक कुणाल सिंह को रखा वहीं दूसरी तरफ खुद भी अभिनय करते नजर आए फिल्म में भोजपुरी के पारंपरिक विवाह गीत संस्कार गीतों के साथ ही साथ कहीं भी अश्लीलता नहीं है ၊ वे बताते हैं कि किसी अभियान का आंदोलन बनाने के लिए जो मुश्किलें आती हैं इस फिल्म के निर्माण के दौरान तो नहीं लेकिन इस फिल्म के प्रदर्शन के दौरान उनके सामने आई डिस्ट्रीब्यूटरों के बारे में उन्होंने सोचा नहीं था भोजपुरी फिल्मों को बर्बाद करने में सबसे बड़ा हाथ बिहार के वितरकों का है ၊

यह फिल्म निर्माताओं को चारा समझते हैं और उनसे मनमाफिक बिज़नेस डील करते हैं। 29 जून कौन सी फिल्म रिलीज हुई है और सफलता पूर्वक तीसरे हफ्ते में बिहार के सिनेमाघरों में चल रही है। रासबिहारी गिरी कहते हैं कि यह तो महज आगाज है वह जल्द ही एक नए प्रोजेक्ट को लेकर फिल्म बनाने जा रहे हैं जिसमें बिहार के ग्रामीण कलाकारों को मौका दिया जाएगा साथी साथ भोजपुरी के स्तर को सुधारने की दिशा में भी व्यापक पैमाने पर काम हो रहा है उन्होंने राज्य सरकार को पत्र भेजकर बिहार में अश्लील भोजपुरी गीत संगीत व फिल्मों पर रोक लगाने के लिए कठोर कानून बनाने की मांग की है ၊ इस मामले को लेकर न्यायालय का दरवाजा खटखटाने जा रहे है ၊

FacebookTwitterGoogle+WhatsApp

About Admin

x

Check Also

आस्था और अंधविश्वास की बारीक लकीर का तानाबाना है फिल्म मृदँग – 27 जुलाई को कई शहरो में प्रदर्शित होगी

आस्था और अंधविश्वास की बारीक लकीर का तानाबाना है फिल्म मृदँग – ...

Translate »
Powered by shf network private limited